Google Play link
Samajwadi Party releases fourth list of candidates; Akhilesh to contest from Mubarakpur | Samajwadi Party releases manifesto for UP polls | Congress releases list of 63 candidates in Uttarakhand | Ticket to Rajnath Singh's son, Pankaj Singh causes resentment in the BJP in U.P. | Congress releases first list of 43 candidates for UP polls
Main Menu

निकाय और लोकसभा उप चुनाव में होगी अखिलेश के नेतृत्व की परीक्षा

परिवार की कलह शांत होने के आसार दिखाई पडऩे के बावजूद पांच साल के लिए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष चुने गए अखिलेश यादव को अभी कई मोर्चों पर जूझना होगा। पार्टी का सबसे प्रभावी चेहरा बनने के बाद अब उनके सामने संगठन को विस्तार देने के साथ ही कार्यकर्ताओं में नया जोश भरने की चुनौती है, जो मुलायम और शिवपाल के हाशिए पर जाने की वजह से आसान नहीं रह गई है। हालांकि अखिलेश सत्ता से बाहर रहते हुए 2012 के चुनाव में जनता के बीच में जा चुके हैैं, लेकिन तब संगठन के मुखिया के रूप में मुलायम का साया था।अब उन्हें मुलायम से बड़ी लकीर खींचते हुए कुनबे की कलह में छितराई पार्टी को एक सूत्र में बांधने का कौशल दिखाने और असंतुष्टों को साधने, कड़े फैसले लेने का दम भी दिखाना होगा।

निकाय चुनाव होगी पहली परीक्षा : वैसे तो सम्मेलन से पहली ही सपा ने निकाय चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी थीं, लेकिन अब इसमें तेजी आएगी। सपा इस बार अपने सिंबल पर निकाय चुनाव लडऩे जा रही है, इसलिए अखिलेश के नेतृत्व कौशल का भी आकलन होगा। इसमें टिकट से वंचित कार्यकर्ताओं का विरोध भी खुलकर सामने आ सकता है, जिसका प्रभाव न सिर्फ निकाय चुनाव बल्कि आगामी लोकसभा चुनाव पर भी पड़ सकता है। इसके साथ ही लोकसभा के उप चुनावों के परिणाम से भी उनकी लोकप्रियता का आकलन किया जाएगा।

गठबंधन पर नए सिरे से विचार : समाजवादी पार्टी ने पिछला विधानसभा चुनाव कांग्रेस से गठबंधन कर लड़ा था, लेकिन पार्टी का एक बड़ा तबका तब भी इसके खिलाफ था। लोकसभा चुनाव की तैयारियों के मद्देनजर सपा के नए अध्यक्ष को कांग्रेस से दोस्ती पर नए सिरे से विचार करना होगा। भाजपा का रथ रोकने के लिए महागठबंधन की बातें भी उठती रही हैैं। इस पर अखिलेश का फैसला चुनावी नजरिए से महत्वपूर्ण साबित होगा। वैसे सपा यह कह चुकी है कि निकाय चुनाव वह अकेले ही लड़ेगी, लेकिन 2019 के चुनाव में भाजपा के मुकाबले के लिए उसके कदम पर सबकी निगाहें रहेंगी।

Source : Dainik Jagran

Facebook Comments





Related News

  • मुलायम ने अखिलेश को बताया धोखेबाज, अखिलेश बोले- नेताजी जिंदाबाद
  • उत्तर प्रदेश के निकाय चुनाव में नहीं दिखेगी अखिलेश-राहुल की दोस्ती
  • सपा राज के 70 से अधिक सलाहकारों व अध्यक्षों का ओहदा छिना
  • सपा में हार पर खलबली, अब ये है अखिलेश का प्लान
  • बाहर वाले यूपी छोड़कर चले गए, हम तो यहीं रहेंगे: अखिलेश यादव
  • सपा में सात नेताओं पर‌ गिरी अखिलेश की गाज, पार्टी से बाहर
  • अखिलेश बोले, दोबारा मौका मिला तो यूपी की तस्वीर बदल कर रख दूंगा
  • यूपी चुनाव: कांग्रेस ने बढ़ाई मुलायम के करीबियों की मुश्किलें
  • Contact Us